हम में से कई सारे लोगों को, दूसरों की सेवा और मदद करने में आनंद आता है

1

हम में से कई सारे लोगों को, दूसरों की सेवा और मदद करने में आनंद आता है

हम में से कई सारे लोगों को, दूसरों की सेवा और मदद करने में आनंद आता है शांति का अनुभव होता है खुशी का अनुभव होता है सुख का अनुभव है करुणा और दया का भाव आता है और अनुभव होता है | आप अगर किसी की भी सेवा या मदद करते हैं तो उसका धन्यवाद जरूर करें क्योंकि आप उसके ऋणी है| जैसे किसी डॉक्टर को डॉक्टर बनने के समय विचार आता है कि मैं गांव में जाकर गांव के लोगों की सेवा करूंगा तो उस डॉक्टर को बड़े तहे दिल से उस गांव का और उस गांव वालों का शुक्रिया अदा करना चाहिए जिन्होंने उसे अपने सपने को पूरा करने का मौका दिया और उस आनंद और शांति का अनुभव दिया जो वह चाहता हैं| इसी तरह अगर आप कार में कहीं जा रहे हैं और रास्ते में आपने किसी गरीब को दुखी देखा आपके मन में करुणा और दया के भाव आते हैं और आप कार रोककर उसकी सेवा करते हैं मदद करते हैं तो आपको उसका तहे दिल से शुक्रिया अदा करना चाहिए कि उसने आपको सेवा का मौका दिया और जो आपके मन में विचार था करुणा का दया का सेवा का इच्छा का उसको पूर्ण किया| इसका अर्थ यह है कि उस गरीब को उस जरूरतमंद को देख कर जो आपके अंदर इच्छा जागृत हुई उसको पूर्ण करने में उस जरूरतमंद का हाथ है| सेवा मदद शांति सुख करुणा यह सब पॉजिटिव इमोशन है इनसे हमें शक्ति मिलती है| अगर आप पॉलिटिक्स से या समाज सेवा से जुड़े हैं और आप और आप इसमें सेवा के भाव से आए हैं तो आपको उस समाज का समाज में रहने वालों का तहे दिल से शुक्रिया अदा करना चाहिए जिन्होंने आपको अपनी इच्छा पूर्ण करने का मौका दिया| जैसे किसी को बोलने की शेयर करने की आदत होती है जैसे मैं अभी कर रहा हूं तो मुझे सुनने वालों को और पढ़ने वालों को तहे दिल से धन्यवाद करना चाहिए कि उन्होंने मुझे पढ़ा और सुना| इसलिए मैं आप सबका शुक्रगुजार हूं जो आप मुझे अपनी बात रखने का बोलने का सुनाने का सुख दे रहे हैं| वैसे ही जैसे अपना एक कोई दुकान खोलने की इच्छा हुई आपका ड्रीम रहा कि मैं कपड़े की दुकान खोल कर तरह-तरह की वैरायटी देश भर से यहां वहां से लाकर अपने दुकान में बेचूंगा| यह अगर आपका करियर ड्रीम था या है या और इस तरह का कोई ड्रीम है तो आपको हर उस व्यक्ति का कस्टमर का धन्यवाद करना चाहिए जिन्होंने आपको सफल बनाने में आपकी इच्छा को पूर्ण करने में योगदान दिया है| सबसे पहला तो उस कस्टमर का धन्यवाद या उस पेशेंट का धन्यवाद करना चाहिए जो सबसे पहले पहले पहली बार जब आपने दुकान खोला और पहला कस्टमर आया आपका कैसी खुशी का अनुभव होता है विश्वास का अनुभव होता है शक्ति का अनुभव होता है प्रेरणा का अनुभव होता है उम्मीद का अनुभव होता है क्योंकि जब भी हम कुछ नया करते हैं तो हमारे मन में चाहे अनचाहे विचार तो आते ही है क्या मेरी दुकान चलेगी क्या मैं सफल रहूंगा तो उस समय उस अनजान कस्टमर पहले कस्टमर का बड़ा योगदान होता है जो हमें उम्मीद देता है शक्ति देता है कि हम कर सकते हैं हम सफल हो सकते हैं| धन्यवाद| जय हिंद

Share It
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *